Home » EXCLUSIVE, जुर्म » कैबिनेट सेक्रेटरी पर भी भारी एसएसपी गाजियाबाद!

RaghuveerLalभड़ास4पुलिस डेस्क

गाजियाबाद

उत्तर प्रदेश का सबसे महत्वपूर्ण थाना माने जाने वाले इंदिरापुरम में पिछले दिनों हुयी उठापटक की सबसे बड़ी वजह रही जनपद में तेज़ी से बढ़ रहा अपराध। भड़ास4पुलिस को विश्वसनीय सूत्रों के माध्यम से इंदिरापुरम थाने में आए बवंडर का राज़ पता चला है। सूत्रों ने हमें बताया कि लखनऊ में बैठे कैबिनेट सचिव शशांक शेखर ने गाजियाबाद एसएसपी रघुवीर लाल की जमकर क्लास ली। वजह थी जनपद में दिन दूना, रात चौगुना की गति से बढ़ रहा अपराध। गाजियाबाद की लखनऊ में रोज़ मिल रही शिकायतों से त्रस्त शशांक शेखर ने एसएसपी पर जमकर अपनी भड़ास निकाली।

सूत्रों ने तो यहां तक बताया कि शासन से लताड़ लगने के बाद एसएसपी साहब की सिट्टी-पिट्टी गुम हो गयी। मरता क्या न करता की तर्ज पर रघुवीर लाल ने उन पुलिसकर्मियों पर गाज गिरा दी जो उनके खासमखास माने जाते थे। सूत्रों ने तो यहां तक बताया कि एसएसपी का डंडा उन पुलिसकर्मियों पर चला है, जो जिले में डंके की चोट पर कहते थे कि उनकी जीडी लखनऊ से चलती है, उन्हें गाजियाबाद जिले से हटाना किसी के बूते की बात नहीं। एसएसपी के चहेते माने जाने वाले इंदिरापुरम थाने में तैनात एसओ से लेकर कांस्टेबल तक के पुलिसकर्मियों को अचानक गैर जनपद स्थानांतरित करने के आदेश दे दिए गए। बता दें कि लाइन हाजिर चल रहे थाना प्रभारी सुनील कुमार को इलाहाबाद, थाने में तैनात एसएसआई रामभुवन को बनारस, एसआई लल्लू सिंह को बलिया, चरण सिंह को चित्रकूट तथा कांस्टेबल विनोद शर्मा को फैजाबाद और हेड कांस्टेबल राजकुमार को गोरखपुर भेजा दिया गया। इन सभी को रिलीव करने के आदेश एसएसपी ने दिए।

सूत्र ये भी बताते हैं कि कैबिनेट सेक्रेटरी शशांक शेखर द्वारा एसएसपी को हड़काए जाने के बाद एक आपातकालीन बैठक भी बुलाई गयी। जिसमें उत्तर प्रदेश के डीजीपी बृजलाल भी मौजूद रहे। बैठक में गाजियाबाद में लगातार बढ़ रहे अपराध पर चर्चा की गई। मीटिंग में गाजियाबाद एसएसपी, पुलिस अधिकारी सहित कईयों को टारगेट किया गया। वहीं जनपद में शासन से मिली लताड़ के बाद रघुवीर लाल भी हरकत में आ गए। उन्होंने खुद वायरलेस पर कौशांबी इलाके में जनता को संबोधित किया। उनका कहना था कि अगर आपके इलाके में लूट की किसी बड़ी वारदात को अंजाम दिया गया हो और जिसे पुलिस छुपाना चाहती हो तो वो तुरंत इसकी सूचना उन्हें दें। शासन से खरीखोटी सुनने के बाद एसएसपी साहब का अलर्ट होना लाज़मी था लेकिन जिले में बड़ी-बड़ी आपराधिक वारदातों में बच निकलने वाले पुलिसकर्मी अचानक जिला बदर क्यों कर दिए यह बात किसी को हजम नहीं हुयी।

सूत्र बताते हैं कि अपने गैर जनपद स्थानांतरित होने की ख़बर सुन लाइन हाज़िर चल रहे इंदिरापुरम थाना प्रभारी सुनील कुमार जब एसएसपी से मिलने पहुंचे तो एसएसपी साहब का बर्ताव ऐसा था कि जैसे उन्हें कुछ पता ही न हो। सूत्रों ने बताया कि उन्होंने सुनील कुमार को जवाब दिया कि सब कुछ शासन द्वारा किया गया है। सूत्र तो यह भी बताते हैं कि सुनील कुमार ने अपने ऊपर लगे आरोपों को लेकर अपने तीन बच्चों की कसम भी खायी थी। बता दें कि आगामी विधान सभा चुनाव 2012 नजदीक है, ऐसे में शासन ऐसी कोई भी कोताही बरतने के मूड में नहीं है, जिससे जनपद में उसकी छवि खराब हो।

One Response to “कैबिनेट सेक्रेटरी पर भी भारी एसएसपी गाजियाबाद!”

  1. bhadas4police ko itni breaking news kaise mil jaati hai…. lekin kuchh bhi ho padhkar maza aata hai… lage raho bhadas

    Reply

Leave a Reply

Spam protection by WP Captcha-Free

Switch to our mobile site